जगी मेरी अन्तर्वासना


kamukta, hindi chudai ki kahani

हेलो दोस्तों कैसे हो आप सभी लोग ? मैं आशा करती हूँ की आप सभी लोग ठीक ही होंगे | आप सभी लोग चुदाई का मज़ा तो ले ही रहे होगे | मैं आप लोगो को अपने बारे मैं बता देती हूँ | मेरा नाम सीमा है | मेरी उम्र 20 साल है | मैं रहने वाली लखनऊ की हूँ और मेरी पढाई पूरी हो चुकी है | मैं दिखने में ज्यादा गोरी तो नही हूँ पर मेरा फिगर हॉट और सेक्सी है | मैं आप लोगो को अपने फिगर का साइज़ नही बताउंगी पर इतना बता देती हूँ की मेरे बूब्स काफी बड़े हैं और मेरी गांड बड़ी चौड़ी है | मेरे घर मैं 5 लोग रहते हैं मैं और मेरे पापा मेरी मम्मी  और मेरे दादा-दादी | मेरा कोई भाई नही है और मैं अपने मम्मी और पापा की लाडली बेटी हूँ | मुझे सेक्सी कहानी पढना बहुत पसंद है और मैं सेक्सी कहानी बहुत अरसे से पढ़ती आ रही हूँ | मैं आज आप लोगो के सामने अपनी एक कहानी लेकर आई हूँ | ये मेरी पहली कहानी है तो आप सभी लोगो से आशा करती हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आयेगी और मेरी इस कहानी को पढने में आप लोगो को मज़ा भी आयेगा | मैं आप लोगो का ज्यादा समय न लेते हुवे सीधे अपनी कहानी पर आती हूँ |

ये कहानी तब की है जब मेरी शादी नहीं हुई थी | वैसे अभी तो मेरी शादी हो चुकी है और मेरे पाहि बहुत ही मज़ेदार है वो जम कर मेरी चुदाई करते है | वो भी मेरी तरह सेक्स को खूब एन्जॉय करते है | इसीलिए मैं खुद को बहुत लकी मानती हूँ की मुझे इनके जैसा पति मिला वर्ना मेरी चूत तो ऐसे ही सूखी रह जाती | अभी कहानी स्टार्ट करती हूँ | जब मैं दंसवी क्लास में थी तब मुझे सेक्स के बारे में पता चला था मैंने कुछ पोर्न फ़िल्में देंखी जिसे मेरी चचेरी बहन ने मुझे दिखाया था तब से मेरा मन भी सेक्स करने का होने लगा था | मैं भी अब चुदना चाहती थी | अब जब भी ज्यादा मन होता मैं अपनी चूत में उंगली डाल लिया करती थी और खूब मज़े करती थी |

अब मुझे चुदाई के लिए एक लंड की ज़रूरत थी | जिसके लिए अब मैं तो बस तैयार बैठी थी | मेरी क्लास में ही एक लड़का था वो ज्यादा लंबा नहीं था लेकिन मुझे बहुत पसन्द करता था | एक दिन उसने मुझे प्रपोस कर दिया | मैं तो बस लंड की चाह थी | मेरी चूत से और बर्दास्त नहीं हो रहा था | मैंने तुरंत हाँ कर दिया |

उसका नाम रवि था | अब उससे रोज़ फ़ोन पर बातें होने लगी | वो बहुत प्यार करता था मुझसे | धीरे –धीरे हमारी बातें बहुत आगे बढ़ गई हम सेक्स की बातें करने लगे | जब हम सेक्स की बात करते तो वो अपना लंड अपने हाथ में लेकर हिलाता  और मैं भी गर्म हो जाती तो मुझे भी मेरी चूत में उंगली करनी पड़ती थी | एक बार मैंने रवि से कहा की मुझे उसका लंड देखना है | वो बहुत खुश हुआ | उसने कहा ठीक है | अब बस हम मौके की तलाश में थे की कब हमें मौका मिले और और मेरी चूत को लंड |

हमें मौका मिला एक बार उसने बताया की उसके दोस्त का रूम एक दम अलग जगह पर है | जहाँ ज्यादा भींड नहीं होती है और वो दोस्त भी अपने घर गया है और उसके कमरे की चाभी उसके पास है | हम स्कूल से जल्दी निकल गए | आज मैं बहुत खुश थी क्योकि आज मेरी चूत को लंड मिलेगा और वो भी रवि का जिससे मैं बहुत प्यार करती थी | हम रूम पर पहुंचे | रवि ने मुझे गोद में उठा लिया और तुरंत मेरे होंठ से होंठ लगा कर जोर जोर से किस करने लगा | मैं भी उसका बराबर साथ दे रही थी | करीब 5 मिनट तक हम एक दुसरे को किस करते रहे फिर उसने मुझे बेड पर लिटा दिया | कुछ देर तक किस करने के बाद मेरे कपडे निकालने लगा और मैंने उसके कपडे निकाल दिए | फिर कुछ ही देर में हम दोनों एक दुसरे के सामने बिना कपड़ो के आ गए मैं अब सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी | मुझे बहुत शर्म आ रही थी | रवि ने मुझे गले से लगा लिया | फिर उसमे मेरी ब्रा पैंटी भी निकाल दी | जब हम दोनों बिना कपडे के आ गए तो वो मेरे एक दूध को मुंह में रख कर चूसने लगा और दुसरे दूध को हाथ में पकड कर मसलने लगा | वो जब मेरे बूब्स को दबा रहा था तो मेरी सांसे तेज हो गयी थी | वो मेरे बूब्स को चूसने के साथ मेरे एक बूब्स के निप्पल को ऊँगली से घुमा रहा था | वो मेरे बूब्स को चूसने के साथ अपने हाथ की ऊँगली को मेरी चूत में घुसा दिया |

फिर वो मेरी चूत में ऊँगली को जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा | वो मेरी चूत में अपनी ऊँगली को ऐसे ही कुछ देर तक अन्दर बाहर करने के बाद | उसने मेरी टांगो को पकड कर अपनी और खीच लिया और मेरी चूत के मुंह पर अपने लंड को रख कर घुसा दिया | उसका लंड जैसे ही मेरी चूत में घुसा तो मेरे मुंह से जोरदार सिसकियाँ निकल गयी | वो मेरी कमर को पकड कर धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा | वो मुझे धीरे धीरे धक्को के साथ चोद रहा था और मैं मस्त होकर चुद रही थी | वो कुछ देर तक धीरे धीरे अन्दर बाहर करने के बाद धक्को की स्पीड तेज कर दी जिससे मेरे मुंह से हाँ हाँ अह अह उई हाँ उई हाँ आह्ह्हह्ह उह्ह्हह्ह उई अह उई हाँ उई….. आ आ आ उई हाँ सी उई सी सी उई… की सिसकियाँ लेने लगी | मेरी चूत में जोर जोर से धक्के मार रहा था | मुझे ऐसे ही कुछ देर तक चोदने के बाद मुझे घोड़ी बना दिया और फिर मेरी चूत में पीछे से लंड को घुसा कर जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर करने लगा | वो मेरी कमर को पकड कर जोरदार धक्के मार रहा था और मैं अपनी चूत को आगे पीछे करती हुई चुद रही थी साथ में आन्ह्ह्हह  उम्म्मम्म्म्म उई हाँ उई अह उई हाँ उई….. आ आ आ उई हाँ सी उई सी सी उई… की सेक्सी आवाजे कर रही थी | हमने आधे घंटे जम के मजे किये फिर हमने कपडे पहने और वहा से निकल आये | वो में पहली चुदाई थी | उसके बाद रवि ने कई बार मुझे चोदा | जब भी हमे मौका मिलता हम सेक्स करते थे |

कृपया कहानी शेयर करें :