मेरा नाम छपा चूत पर


Antarvasna, hindi sex story, kamukta मैं गांव का रहने वाला एक सामान्य सा लड़का हूं मेरे पिता जी किसानी करके अपने घर का भरण पोषण करते हैं लेकिन मैं कुछ करने की चाह में शहर आ गया। जब मैं शहर आया तो मुझे काफी अजीब सा महसूस हुआ क्योंकि मैं अपने परिवार से अलग कभी रहा ही नहीं था मेरी पढ़ाई ज्यादा तो नहीं हो पाई थी लेकिन उसके बावजूद मुझे अपने ऊपर पूरा भरोसा था और उसी भरोसा के दम पर में शहर आ गया। मैं पहली बार मुंबई आया और मुंबई की चकाचौंध भरी जिंदगी देख कर मैं जैसे उसी भीड़ का हिस्सा बन गया था। मेरे पास ना तो ज्यादा पैसे थे और ना ही मेरे पास अच्छी नौकरी थी लेकिन जल्द ही मेरी अच्छी नौकरी लगने वाली थी और सब कुछ मेरी जिंदगी में बदलने वाला था।

सबसे पहले मेरी नौकरी एक टेक्सटाइल कंपनी में लगी वहां पर मैंने करीब 6 माह तक नौकरी की। जब मैं 6 महीने तक वहां काम करता रहा तो मेरे पास कुछ पैसे भी जमा हो गए थे फिर 6 महीने के बाद मैंने दूसरी कंपनी में नौकरी करनी शुरू कर दी वहां पर मेरा प्रमोशन भी होता चला गया और मैं अब एक सामान्य तरीके से जिंदगी जीने लगा था। मेरी दोस्ती कुछ बड़े घराने के लड़कों से भी होने लगी तो वह लोग अपनी कार में मुझसे मिलने आया करते थे। उन्हें देखकर मुझे हमेशा से यह लगता कि क्या कभी मैं भी एक बड़ी कार ले पाऊंगा। समय के साथ हर व्यक्ति के पास कार आ चुकी थी उसमें भी कुछ लोग अपने परिवार के साथ सिर्फ रविवार की छुट्टी मनाने के लिए कार ले जाया करते हैं और कुछ लोगों के पास इतना पैसा होता है कि वह हर वर्ष नई कार खरीदते है। मैंने भी कर लेने का फैसला कर लिया था हालांकि मेरे पास इतने ज्यादा पैसे तो नहीं थे लेकिन फिर भी मैंने कार खरीदी ली। मैं जिस फ्लैट में रहा करता था वही पड़ोस में एक लड़की भी रहती थी उस समय मैं उसे आते जाते देखा करता था लेकिन उससे कभी मेरी बात नहीं हो पाई थी। जब पहली बार मेरी पूनम के साथ बात हुई तो मुझे पूनम के बारे में ज्यादा कुछ मालूम नहीं था क्योंकि पूनम मुझे सिर्फ शाम के वक्त ही दिखती थी मैं जब अपने ऑफिस से लौटता तो उस वक्त मुझे पूनम दिखाई देती थी।

मैं पूनम से बात करना चाहता था लेकिन उससे बात करने का मेरे पास कोई जरिया नहीं था और आखिरकार हमारी कॉलोनी में ही मुझे एक लड़का मिल गया जिसके माध्यम से मेरी बात पूनम से होने लगी। जब पूनम से पहली बार मेरी बात हुई तो मुझे उससे बात कर के बहुत अच्छा लगा उस रात मेरी आंखों से नींद भी गायब थी मैं सो भी नहीं पाया था मैं सिर्फ पूनम से ख्यालों में ही खोया हुआ था। मैं सोच रहा था कि क्या पूनम को कभी मैं अपने दिल की बात भी कह पाऊंगा मेरे दिल में पूनम के लिए एक तूफान से उठा रहा था लेकिन मुझे पता नहीं था कि पूनम के दिल में मेरे लिए क्या है। मैं पूनम से जब भी बात करता हूं तो मुझे अच्छा लगता, एक दिन मैंने पूनम से कहा क्या तुम मेरे साथ लंच पर चलोगी। पहले तो वह मुझे मना कर रही थी लेकिन कई बार कहने पर वह मेरे साथ लंच के लिए आने के लिए तैयार हो गई पहली बार हम दोनों ने साथ में दोपहर का लंच किया तो मुझे पूनम को अपनी बातें बताने का मौका मिल गया था। मैंने पूनम को अपने दिल की बात बता दी और जब मैंने पूनम को अपने दिल की बात बताई तो पूनम भी कहने लगी देखो रोहित तुम बहुत ही अच्छे लड़के हो लेकिन मैं तुम्हें सिर्फ अच्छा दोस्त मानती हूं और इससे अधिक मैंने तुम्हारे बारे में कभी कुछ नहीं सोचा। पूनम की इस बात से मेरा दिल चकनाचूर हो चुका था मेरे दिल के दो टुकड़े हो चुके थे लेकिन फिर भी मैंने हार नहीं मानी और उसके बाद भी मैं पूनम के साथ वैसे ही बात किया करता जैसे कि पहले क्या करता था लेकिन पूनम के दिल में तो कोई और ही था। मुझे नहीं मालूम था कि वह किससे प्यार करती है लेकिन उसी कॉलोनी में रहने वाले मेरे दोस्त ने मुझे उस लड़के के बारे में बताया तो मैं सोचने लगा कि उस लड़के में ऐसा क्या है जो पूनम उससे प्यार करती है। मेरे दिल से पूनम का ख्याल नहीं निकल रहा था और इसी बीच मैं अपने गांव कुछ दिनों के लिए चला गया।

जब मैं अपने गांव गया तो मेरी मां की तबीयत कुछ ज्यादा ही खराब थी और उसी बीच मेंरी बहन की भी शादी होने वाली थी शादी का सारा दारोमदार मेरे कंधों पर ही था। मैंने पहले तो अपनी मां को डॉक्टर को दिखाया उसके बाद जब वह ठीक होने लगी तो उसके कुछ समय बाद ही मेरी छोटी बहन की शादी होने वाली थी उसकी शादी भी बड़ी धूमधाम से हुई। जब उसकी शादी हो गई तो उसके बाद मैं कुछ दिन तक तो मैं अपने गांव में ही था उसी बीच एक दिन हमारे घर पर एक लड़की आई मैंने उसे पहली बार ही देखा था लेकिन मुझे नहीं पता था कि वह मेरी छोटी बहन की सहेली है उसका नाम काजल था। काजल ने मुझसे पूछा कि क्या आप मेघा के भाई है तो मैंने उसे कहा हां मैं मेघा का भाई हूं काजल मुझसे कहने लगी क्या मेघा घर पर है। मैंने काजल से कहां अभी तो वह घर पर नहीं है वह मां के साथ खेत में गई हुई है। मेघा अपने ससुराल से कुछ दिनों के लिए घर पर आई हुई थी काजल पास के गांव में रहती है मैंने काजल से कहा तुम कुछ देर इंतजार कर लो मेघा आती ही होगी। काजल कहने लगी कि कोई बात नहीं मैं कल आ जाऊंगी और यह कहते हुए वह चली गई जब मेघा और मेरी मां लौटे तो मैंने मेघा से कहा तुम्हारी सहेली काजल आई हुई थी। वह कहने लगी वह कब आई थी तो मैंने मेघा को बताया उसे तो करीब 2 घंटे हो चुके हैं मैंने उसे बैठने के लिए कहा था लेकिन वह कहने लगी मैं कल आऊंगी। मैंने मेघा से पूछा काजल क्या तुम्हारे साथ पढ़ाई करती थी मेघा कहने लगी हां भैया वह मेरे साथ स्कूल में ही पढ़ती थी।

मैं उस रात अपने कमरे में लेट कर पूनम के बारे में सोच रहा था क्योंकि पूनम का ख्याल मेरे दिल से निकल ही नहीं रहा था मेरी आंखों से नींद गायब थी मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि कैसे मैं पूनम को अपना बनाऊं। मेरे पास इस बात का कोई भी जवाब नहीं था लेकिन मैं जब शहर गया तो मैं पूनम से बात जरुर किया करता परंतु उसके बावजूद भी हम दोनों एक दूसरे को कभी स्वीकार नहीं कर पाए। पूनम के दिल में मेरे लिए जगह नहीं थी और उसके बावजूद भी मैं पूनम को दिल से चाहता था। पूनम मेरी कभी होने वाली नहीं थी वह सिर्फ मुझे अपना दोस्त मानती थी परंतु एक दिन वह बहुत ज्यादा दुखी थी। जब वह मेरे फ्लैट में आई तो मैं उससे बात करने लगा जब हम दोनों बात करते तो वह मुझे बड़े ध्यान से देखती। मैंने पूनम को कहां आज तुम कुछ ज्यादा परेशान लग रही हो पूनम के चेहरे का रंग उड़ा हुआ था शायद उसका झगड़ा उसके बॉयफ्रेंड के साथ हुआ था इसलिए वह बहुत ही ज्यादा दुखी थी परंतु मुझे तो बहुत ही अच्छा मौका मिल चुका था। मैंने पूनम को कहा क्या आज तुम्हारा झगड़ा तुम्हारे बॉयफ्रेंड से हुआ है? वह कहने लगी हां उसने मुझे सारी बात बताई तो मैं जैसे आग में घी डालने का काम कर रहा था मुझे तो सिर्फ पूनम चाहिए थी और उसके लिए मैं कुछ भी करने को तैयार था। पूनम मेरी बातों में हां में हां मिलाए जा रही थी मैंने उसे अपना बनाने की तरफ एक कदम आगे बढ़ा ही लिया था।

मैंने जैसे ही उसकी जांघ को सहलाना शुरू किया तो वह उत्तेजित होने लगी मैने भी अपने हाथ को उसकी योनि की तरफ बढ़ाया तो उसने भी मेरा कोई विरोध नहीं किया। मैंने जैसे ही उसकी योनि को अपने हाथ से दबाया तो वह जैसे मचलने लगी थी मैं तो बहुत ज्यादा खुश था। मैंने भी अपने लंड को अपनी पैंट से बाहर निकाल लिया जैसे ही मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो पूनम ने उसे अपने हाथों में ले लिया और उसे हिलाना शुरू कर दिया। उसके हाथ के स्पर्श से ही मेरा लंड पूरी तरीके से तन कर खड़ा हो चुका था अब बारी थी पूनम की। पूनम ने भी मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर समा लिया और उसको चूसने लगी। जब वह मुंह से मेरा लंड को चुसती तो मुझे बड़ा मजा आता और काफी देर तक उसने मेरे लंड को चूसना जारी रखा। जिस प्रकार से वह मेरे लंड को चूस रही थी उससे मेरे लंड से पूरी तरीके से पानी बाहर निकलने लगा था। मै अपने आपको बिल्कुल भी रोक नहीं पा रहा था मैंने पूनम से कहा तुम अपने कपड़े उतार दो।

पूनम ने अपने बदन से सारे कपड़े उतार दिए उसका बदन देखकर मै बिल्कुल ही रह ना सका। मैंने अपने मोटे लंड को उनकी योनि पर सटा दिया और अंदर की तरफ धक्का देना शुरू किया। मेरा लंड पूनम की चूत मे जा चुका था वह चिल्लाते हुए कहने लगी रोहित तुम्हारा लंड बड़ा मोटा है। मैंने उसे कहा कोई बात नहीं और यह कहते ही मैंने उसके दोनों पैरों को पकड़ लिया और उसकी योनि के अंदर बाहर अपने लंड को करना शुरु कर दिया आखिरकार वह मेरी हो चुकी थी और मुझसे लिपट कर वह अपने नाखूनों को मेरी कमर पर मार रही थी जिससे कि मेरे कमर से खून भी निकलने लगा था। हम दोनों के अंदर अब गर्मी बढ़ती जा रही थी मैं भी काफी देर तक उसे धक्का मारता रहा मुझे बड़ा मजा आ रहा था। वह भी पूरी तरीके से सेक्स का आनंद ले रही थी जैसे ही मेरा वीर्य मेरे अंडकोषो से बाहर की तरफ को आने लगा तो मैंने अपने वीर्य को पूनम के स्तनों का गिरा दिया। उसके बड़े स्तन बड़े ही लाजवाब थे जैसे ही मैंने वीर्य को उसके स्तनों पर गिराया तो वह खुश हो गई उसका मूड भी ठीक हो चुका था। हम दोनों अब भी दोस्त है लेकिन उसके बावजूद भी हम दोनों के बीच शारीरिक संबंध बन जाते हैं।

Online porn video at mobile phone


sexy bhabhi ki chudai ki storymast chudai ki storyhindisexkhanichoti mausi ki chudaichudail ki chudai ki kahanibhabhi ki chudai dekhibhai ne chut phadisexsi babichudai ki kahani antarvasnasagi behan ki chudai ki kahanimaa ke chodastudent or teacher ki chudaitution chudaiantarvasna padosihindi sex story hindi meantarvasna story downloadmaa ki chudai ki new kahanibhai behan ki sexy story in hindimeri chut ki kahanisasti chudaigay sexy storybhabhi ki chut ka pani piyamature aunty ko chodawww kamukta hindi storyrelation me chudai ki kahanichachi story hindisex hinde storechut khanehindi me behan ki chudairandi ki chut phadihot indian sexy stories in hindichoot ke baaljunglee chudaidesi sex kahani comsexy chudai ki kahani hindi mechut ki chatbhabhi ki chudai storyteacher ne maa ko chodapati patni sambhogbahan ki chudai ki kahaniaxxx hindi desi storyhindi kahani in hindi fontstory of chudai in hindibete se chudai storychudae ki kahanichut ki kahani in hindi fontaeroplane me chudaichudai ki kahani mastramdesi randi ki chudai kahanibhabhi ka chodabahu ki mast chudailund and chut storybathroom me maa ko chodasexy story hindi maiphoto k sath chudai ki kahanichudai ki tadapdehati maa ki chudaihindi hot story in hindichachi ki ladki ki chudaikajal ki chootdesi sex short storiessex desi storyhindu sexy kahanichut m paniporn sex story hindibehan ki chudai kahani hindi mechudai kahani maa bete kihindi font desi storyhindi sex story indianmai chud gayichut ki seal todiboor ki chodai ki kahani