सेक्स की थकावट


Click to Download this video!

kamukta, antarvasna मेरी शादी को पांच वर्ष हो चुके हैं और मेरी एक छोटी लड़की है जिसकी उम्र तीन वर्ष है, जब उसका जन्म हुआ तो मुझे अपनी नौकरी छोड़नी पड़ी मैं स्कूल में एक डांस टीचर थी और जिसके बाद मैंने स्कूल से नौकरी छोड़ दी तब से मैं घर पर ही हूं लेकिन मेरा घर पर बिल्कुल मन नहीं लगता इसके लिए मैंने एक दिन अपने पति से बात की और उन्हें कहा कि मुझे कोई काम करना है, वह कहने लगे यदि तुम कुछ काम करोगी तो हमारी बच्ची की देखभाल कौन करेगा, मैंने उन्हें कहा मैं उसकी भी देखभाल कर लूंगी और घर पर ही मैं कुछ काम कर लूंगी, वह कहने लगे तुम घर पर बच्चों को डांस क्लास क्यों नहीं देती तुम्हें तो अच्छा डांस करना आता है, मैंने अपने पति से कहा तुम यह सही कह रहे हो मैं घर पर ही डांस क्लास देती हूं।

मेरे पति ने मुझे डांस क्लास खोलने के लिए कहा तो मैंने भी उनकी बात झट से मान ली क्योंकि मुझे तो डांस का वैसे ही शौक है, मैंने जब घर पर डांस क्लास खोला तो पड़ोस के बच्चे मेरे पास आने लगे और मैंने अच्छे से डांस सिखाया करती धीरे धीरे मेरे पास बच्चों की संख्या बढ़ने लगी मेरे पास अब काफी बच्चे हो चुके थे इसलिए घर पर मुझे जगह की प्रॉब्लम होने लगी मैंने इस बारे में अपने पति से बात की तो वह कहने लगे हम लोग किसी दूसरी जगह पर देख लेते हैं लेकिन मुझे कोई ऐसी जगह ही नहीं मिल पा रही थी तब मैंने अपनी एक पुरानी सहेली को फोन किया उसने मुझे बताया कि उसका भाई भी बच्चों को डांस क्लास देता है यदि तुम उसकी जगह को इस्तेमाल कर सकती हो तो तुम उससे बात कर लो, मैंने उसे कहा तुम मुझे अपने भैया का नंबर दे देना उसने मुझे अपने भैया का नंबर दे दिया मैंने जब उन्हें फोन किया तो वह कहने लगे हां कहिये आप कौन बोल रही हैं? मैंने उन्हें बताया मैं आशा बोल रही हूं और मैं आपकी बहन के साथ कॉलेज में पढ़ा करती थी उन्होंने मुझे कहा हां आशा बोलो मेरी बहन तुम्हारे बारे में काफी बात किया करती थी मुझे अब भी याद है।

वह पूछने लगे कि आज तुमने मुझे कैसे फोन कर लिया, मैंने उन्हें बताया कि दरअसल मैं घर पर डांस क्लास चलाती हूं लेकिन मेरे पास अब काफी बच्चे होने लगे हैं जिसकी वजह से मुझे स्पेस की दिक्कत होने लगी है मेरे घर पर इतनी जगह नहीं है कि मैं उन सब बच्चों को एक साथ डांस क्लास दे पाऊं, मुझे आपके बारे में भी पता था कि आप बच्चों को डांस क्लास देते हैं इसलिए मैंने रुचि को फोन किया था और उसी ने मुझे बताया कि मैं आपसे एक बार फोन पर बात कर लूं यदि आप मेरी कुछ मदद कर पाए तो मेरी समस्या का हल हो जाएगा, वह मुझे कहने लगे क्या तुमने कहीं कोई जगह नहीं देखी? मैंने उन्हें कहा मैंने एक जगह देखी थी लेकिन वहां पर मुझे कुछ समझ नहीं आया इसलिए मैंने वहां पर जाना उचित नहीं समझा वहां पर किराया भी काफी ज्यादा था। रुचि के भाई का नाम पवन है वह मुझे कहने लगे आशा तुम एक काम करना मुझसे मिलने के लिए कल आना कल हम लोग बैठ कर बात करते हैं, मैंने उनसे कहा ठीक है मैं आपसे मिलने के लिए कल आती हूं, वह कहने लगे कल सुबह तुम मुझे एक बार फोन कर के याद दिला देना, मैंने उन्हें कहा ठीक है मैं आपको सुबह फोन कर दूंगी। मैंने उन्हें सुबह ही फोन कर दिया वह कहने लगे कि तुम शाम के वक्त मुझसे मिलने आ जाना मैं शाम को उनसे मिलने के लिए चली गई क्योंकि उस दिन संडे था इसलिए मैं फ्री थी, संडे को मैं डांस क्लास नहीं रखती। मैं उनसे मिलने के लिए चली गई उस दिन रुचि भी आई हुई थी मेरी मुलाकात रुचि से भी हो गई और पवन मुझे कहने लगे कि आशा मुझे तुम्हें जगह देने में कोई दिक्कत नहीं है लेकिन तुम्हें अपने हिसाब से टाइमिंग करनी पड़ेगी क्योंकि मेरे पास सुबह और शाम को ही बच्चे होते हैं उसके बाद तो मेरे पास यह स्पेस खाली ही पड़ा रहता है, मैंने उन्हें कहा जब आप अपनी क्लास बंद कर देंगे उसके बाद मैं अपने बच्चों को डांस क्लास के लिए बुला लूंगी हम दोनों की रजामंदी से यह बात तय हो गई। मैंने रुचि से पूछा कि मैं महीने का कितना किराया दूं तो रुचि मुझे कहने लगी कि तुम भैया को महीने के 10,000 दे दिया करना क्योंकि मैंने रुचि से पहले ही इस बारे में बात कर ली थी कि किराए के लिए तुम ही बात करना, रुचि के भैया भी मान गए और अब मुझे एक बड़ी जगह मिल चुकी थी जिससे कि मैं और बच्चों को भी डांस सिखा सकती थी।

मैं जब अपने बच्चों को डांस सिखाती तो उस वक्त पवन अपने घर जा चुके होते थे लेकिन एक दिन वह वहीं रुक गया और जब मैं बच्चों को डांस सिखा रही थी तो वह कहने लगे कि तुम तो बहुत अच्छा डांस करती हो मुझे तो पता नहीं था कि तुम बच्चों को इतना अच्छी तरीके से सिखाती हो। वह मेरे डांस से बड़ा ही इंप्रेस थे और मुझे कहने लगे कि क्या तुमने कभी इससे आगे बढ़ने की कोशिश नहीं की, मैंने उन्हें बताया कि मेरी शादी पांच साल पहले हो गई थी और उसके कुछ साल बाद मेरी एक बच्ची भी हो गई जिसकी वजह से मैं घर पर ही उसकी देखभाल के लिए थी उससे पहले मैं एक प्राइवेट स्कूल में डांस सिखाया करती थी। वह मेरी बातों से बहुत ज्यादा प्रभावित हुए वह कहने लगे कि तुम्हारे अंदर बहुत अच्छी काबिलियत है यदि तुम आगे बढ़ना चाहती हो तो तुम्हें थोड़ा बहुत मेहनत करनी पड़ेगी, मैंने उन्हें कहा अब भला मैं क्या करूंगी मैं अपने डांस क्लास से ही खुश हूं और बच्चों को डांस सिखा कर मुझे जो खुशी मिलती है वह शायद कभी पूरी हो भी नहीं पाती लेकिन मेरे पति ने मेरा बहुत प्रोत्साहन किया उनकी वजह से ही मैंने बच्चों को डांस सिखाने के बारे में सोचा यदि वह मुझे नहीं कहते कि तुम बच्चों को घर पर डांस सिखाओ तो शायद मैं घर पर ही रहती और अपनी बच्ची की देखभाल कर रही होती पर उनकी वजह से मुझे काफी कुछ चीजों में सहायता मिली।

उस दिन हम लोगों ने काफी देर तक बात की रुचि भी कभी कबार मुझसे मिलने के लिए आ जाया करती थी और पवन से तो मेरी अच्छी दोस्ती होने लगी थी धीरे-धीरे हम दोनों की काफी अच्छी दोस्ती होने लगी क्योंकि वह भी डांस सिखाते हैं और मैं भी डांस सिखाती हूं इसलिए हम दोनों कि काफी हद तक बाते मिला करती थी। एक बार एक डांस प्रतियोगिता होनी थी उसके लिए मैंने और पवन ने एक साथ मिलकर तैयारी की और उस डांस प्रतियोगिता में हम दोनों ने हिस्सा लिया जिस दिन वह डांस प्रतियोगिता थी उस दिन मेरे पति भी आए हुए थे मैंने और पवन ने उस डांस प्रतियोगिता को जीत लिया, मेरे पति बहुत ज्यादा खुश हुए और उसमें जो इनाम की राशि हम दोनों को मिली थी उससे हम लोगों ने घूमने का सोचा और हम लोग घूमने के लिए चले गए, मेरे साथ मेरे पति भी थे और पवन की पत्नी और बच्चे भी थे हम लोगों ने रुचि को भी अपने साथ बुला लिया था रुचि के पति भी हमारे साथ ही घूमने के लिए आए हुए थे हम लोग घूमने के लिए शिमला गए हुए थे और जब हम लोग शिमला से वापस लौटे तो हम सब कुछ दिनों तक शिमला के बारे में ही बात करते रहे और एक दूसरे से कहते रहे कि शिमला में कितना अच्छा मौसम था। हम लोगों के सर से अब तक शिमला का नशा नहीं उतरा था एक दिन पवन मुझे कहने लगे शिमला की ठंड में तो मजा ही आ गया। मैंने पवन से कहा तो फिर आपने भाभी के साथ बड़े ही मजे लिया होंगे वह मुस्कुराकर मुझे कहने लगे हां मैंने तो वहां पूरे मजे लिए लेकिन क्या तुमने भी अपने पति के साथ मजे किए।

मैने कहा हां क्यों नहीं मैंने भी अपने पति के साथ पूरा रोमांस किया और मुझे भी बड़ा अच्छा महसूस हुआ। पवन मुझे कहने लगे क्या तुमने कभी किसी अन्य पुरुष के साथ संबंध बनाया हैं या फिर तुमने कभी किसी के साथ सेक्स करने की सोची। मैंने पवन से कहा नहीं मैंने ऐसा कभी भी नहीं सोचा मैंने पवन से कहा लेकिन मुझे कभी मौका मिलेगा तो मैं जरूर ट्राई करूंगी। पवन ने मुझे कहा तो फिर आज ही हम लोग ट्राई कर लेते हैं वैसे भी आज बहुत सही समय है आज कोई बच्चे आए भी नहीं है। मुझे पवन ने यह बात कही तो मैं अपने आपको पवन के साथ सेक्स करने से नहीं रोक पाई क्योंकि मुझे तो पवन के साथ सेक्स करना ही था। पवन और मैं एक दूसरे के कपड़े उतारने लगे हम दोनों जब नंगे हो गए तो पवन ने मेरे पूरे बदन को ऊपर से लेकर नीचे तक चाटना शुरू किया, पवन ने जब अपने लंड को मेरी चूत पर रगडना शुरू किया तो मेरी चूत से पानी निकलने लगा और मैं मचलने लगी मुझे बड़ा मजा आने लगा था। पवन को भी बहुत अच्छा महसूस हो रहा था पवन ने जैसे ही मुझे नीचे लेटा कर मेरी चूत में लंड डाला तो मुझे एक अजीब सी फीलिंग आने लगी।

उसका लंड मेरी चूत की गहराइयों में चला गया उसका लंड मेरी चूत में जाते ही मुझे बड़ा अच्छा महसूस होने लगा मैं अपने पैर खोलने लगी। पवन मुझे तेजी से धक्के मार रहा था उसके धक्के इतने तेज होते कि मुझे भी बड़ा अच्छा महसूस होता। पवन मुझे कहने लगा यार तुम्हारा शरीर तो आज भी लाजवाब है और तुम एक नंबर की माल हो तुमने अपने फिगर को बड़ा ही मेंटेन किया है। मैंने पवन से कहा तुमने भी तो अब तक अपने लंड को बड़ा मजबूत बनाए रखा है तुम्हारे लंड ने मेरे पूरे शरीर को हिला दिया है और मेरे शरीर से एक अलग ही करंट निकाल रहा है। पवन कहने लगा मैं रोज अपनी बीवी को चोदता हूं वह हमेशा ही मेरे शरीर पर तेल की मालिश करती है जिससे कि मेरा शरीर अब तक मजबूत बना हुआ है। मैंने और पवन ने बहुत देर तक सेक्स किया पवन भी हार मानने को तैयार नहीं था और मैं भी हार मानने को तैयार नहीं थी लेकिन जैसे ही पवन का वीर्य मेरे स्तनों पर गिरा तो मुझे बड़ा अच्छा महसूस हुआ। मैंने पवन से कहा आज तो तुमने मुझे बुरी तरीके से चोद दिया, पवन कहने लगा मैं भी बहुत थक चुका हूं।

कृपया कहानी शेयर करें :